दर्द देखा आज

आज देखा है दर्द करीब से,

हाथ मदद को उठे, कुछ कर न सके.

मजबूर आँखें देखी अपनों की,

तकलीफ में मुसकुरा कर आई हूँ.

ऐ खुदा, इतना भी कठोर न हो,

यही दुआ दिल में माँग आई हूँ.

आज दर्द को करीब से देख आई हूँ

आज दर्द को करीब से देख आई हूँ….

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s